Top 40+ Barish Shayari in Hindi | बारिश पर शायरी

Spread the love

Barish Shayari | बारिश पर शायरी और स्टेटस

बारिश क मौसम अते हि प्रेमी और प्रेमिक एक दुसरे को याद करते है . जो भी हासिन पल गुजरे ते सातः मे उनेहै याद करके मुस्कराते है। दोस्त अगर आप अपने चहने वलो को barish shayari in hindi भेजना चाहते होतो इस पोस्ट मे कैसरि लेटस्त बारिश शायरी मिलेण्गी। इने भेजिये और अपने यादो को ताजा करिये। इन शायरी को अपने Whatsapp, Instagram Status के मदीयं से अपने भवनावोको प्रकट करिये।

फिर इस तारका मुका भार भार नहि मिलेगा , तो डेर किस बतकि जल्दी से अपने मषुका कॊ बारिश शायरी भेजिये और उने प्रसन् करे। इस वेब्सिट पर कैयन्यि प्रकरी हिन्दी शायरी और स्टेटस मिलेण्गी । Please subscribe the notification bell to receive latest shayari with hd images.

Latest Barish Shayari Images

barish shayari

ए बारिश तू इतना न बरस की वो
आ न सके और उसके आने के बाद
इतना बरस की वो जा न सके !!
A Barish Tu Itna Na Baras Ki wo
aa Na Sake aur uske aane ke bad
Itna Baras Ki wo Ja Na Sake..

इस बारिश के मौसम में अजीब
सी कशिश है, ना चाहते हुए भी
कोई शिदत से याद आता है
Is baarish ke mausam mein ajeeb
si kashish hai,na chahate hue bhi
koi shidat se yaad aata hai

भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों
में डूब कर, इस बारिश में कहाँ वो
कशिश तेरे खयालों जैसी।
bheegate hain jis tarah se teri yaadon
mein doob kar,is baarish mein kahaan vo
kashish tere khayaalon jaisi.

Barsaat Shayari Images

 barsat shayari

त पूछो कितनी मोहब्बत है मुझे उनसे,
बारिश की बूंद भी अगर उन्हें छू जाती है,
तो दिल में आग लग जाती है।
Mat pochho kitani mohabbat hai mujhe unase,
Baarish ki boond bhi agar unhen choo jaati hai,
To dil mein aag lag jaati hai.

बारिश में आज भीग जाने दो,
बूंदों को आज बरस जाने दो,
न रोको यूँ खुद को आज,
भीग जाने दो इस दिल को आज।
Barish Mein Aaj Bheeg Jaane Do.
Bundo Ko Aaj Baras Jane Do.
Na Roko Yu Khud Ko Aaj,
Bheeg Jane Do Is Dil Ko Aaj.

याद आई वो पहली बारिश
जब तुझे एक नज़र देखा था
yaad aai vo pahali baarish
jab tujhe ek nazar dekha tha

Barish shayari 2 line

 बरसात शायरी

सारे इत्रों की खुशबू आज मन्द पड़ गयी,
मिट्टी में बारिश की बूंदे जो चंद पड़ गयी।
Sare itro ki khushboo aaj mand pad gayi,
Mitti me barish ki boonde jo chand pad gayi.

आज बारिश ने साबित कर दिया की
आसमा को जमी से कितना प्यार है।
Aaj baaarish ne saabit
kar diya ki Aasma ko
zami se kitna pyaar hai

सावन के महीने में भीगे थे हम साथ में
अब बिन मौसम भीग रहे है तेरी याद में
saavan ke mahene mein bhege the ham saath mein
ab bin mausam bheeg rahe hai teri yaad mein

ये मौसम बारिश का अब पसंद नहीं मुझे
आंसू ही बहुत हैं मेरे भीग जाने के लिए .
ye mausam baarish ka ab pasand nahin
mujhe ansoo hi bahut hai mere bheg jaane ke li

बारिश पर शायरी और स्टेटस

sad barish shayari

मैने अपने सारे दुख आसमा
को बताए अब मैं चुप हु
मगर वो रो रहा है बड़े ज़ोरसे।
Maine apne saare dukh aasma
ko bataye Abb main chup hu
magar wo ro raha hai bade zorse

मेरे दिल की जमीन बरसों से बंजर पडी है
मै तो आज भी बारिश का इन्तेजार कर रहा हूँ
mere dil ki jameen barason
se banjar padee hai main to aaj
bhi barish ka intezar kar raha hon

मुझे ऐसा ही जिन्दगी का हर
एक पल चाहिए प्यार से भरी
बारिश और संग तुम चाहिए !!
Mujhe aisa hi Zindagi Ka har
Ek Pal chahie pyar Se Bhari
Barish aur sang tum chahie

पहली बारिश का नशा ही कुछ
अलग होता है,पलको को छूते ही
सीधा दिल पे असर होता है !!
Pahli Barish Ka Nasha Hi Kuchh
alag Hota Hai palakon Ko Chhute hi
Sidha Dil Pe Asar Hotha hai.

Barsat Shayari Pics

barsaat shayari

ये बारिश अपने साथ साथ
तुम्हारी यादो की बौछार लाई है,
तनहाई के इस आलम में,
खुशियां बेशुमार लाई है.
ye baarish apane saath saath
tumhari yaado ki bauchhar lai hai,
tanahai ke is aalam mein,
khushiyaan beshumaar lai hai

बरिश हो अगर उसमे तुम ना हो
तो फिर बरिश का मजा नहीं आता।
Barish ho agar ussme tum naa ho
Toh phir barish ka maza nahi aata

कही फिसल ना जाओ,
ज़रा संभल के रहना
मौसम बारिश का भी है
और मोहब्बत का भी है
Kahi fisal na jao
Zara sambhal ke rhna
Mausam barish ka bhi hai
Aur mohabbt ka bhi hai

कभी जी भर के बरसना कभी
बूंद बूंद के लिए तरसाना ए बारिश
तेरी आदतें मेरे यार जैसी हैं
kabhi je bhar ke barasana kabhi
boond boond ke lie tarasaana e-baarish
teri aadaten mere yaar jaisi hain

ये ही एक फर्क है तेरे और मेरे
शहर की बारिश में, तेरे यहाँ ‘जाम’
लगता है, मेरे यहाँ ‘जाम’ लगते हैं।
ye hee ek phark hai tere aur mere
shahar ki baarish mein, tere yahaan ‘jaam’
lagata hai, mere yahaan ‘jaam’ lagate hain.

Read More:
Khwab Shayari
Intezaar shayari
2 line romantic shayari

Barsat ki shayari

barsaat shayari in hindi

बनके बादल जरा मुझ पर बरसो
ना हमें तरसाओ ना खुद तरसो
इंतजार अब हमसे नहीं होता
अब बोहोत हो गया कल परसो तरसो।
Banke badal zara mujh par barso
Naa hame tarsao naa khud tarso
Intezaar abb humse nahi hota
Abb bohot ho gaya kal parso tarso

बरसात की भीगी रातों में फिर कोई
सुहानी याद आई कुछ अपना ज़माना
याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई,
barasaat ki bheegi raaton mein phir koi
suhaani yaad aai kuchh apana zamaana
yaad aaya kuchhunaki javaani yaad aai,

पहले बारिश होती थी तो याद आते थे ,
अब याद आते हो तो बारिश होती है
pahale baarish hoti thi to yaad aate the ,
ab yaad aate ho to baarish hoti hai.

ज़रा ठहरो बारिश थम जाये तो फिर
चले जाना किसी का तुझ को
छू लेना मुझे अच्छा नहीं लगता
zara thaharo baarish tham jaaye to phir
chale jaana kisee ka tujh ko
chhoo lena mujhe achchha nahi lagata

कुछ नशा तेरी बात का है
कुछ नशा धीमी बरसात का है
हमे तुम यूँही पागल मत समझो
यह दिल पर असर पहली मुलाकात का है.
kuchh nasha teri baat ka hai
kuchh nasha dheemi barasaat ka hai
hame tum yoonhi paagal mat samajho
yah dil par asar pahali mulakat ka hai

Barish shayari in hindi

बारिश पर शायरी

काश कोई इस तरह भी वाकिफ हो
मेरी जिंदगी से, कि मैं बारिश में
भी रोऊँ और वो मेरे आँसू पढ़ ले।
Kaash koi is tarah bhi vaakif ho
Meri zindagi se, ki main baarish mein
Bhi roon aur vo mere aansoo padh le.

बारिश और मोहब्बत दोनों ही
यादगार होते है, बारिश में जिस्म
भीगता है और मोहबब्त में आंखे।
Barish aur mohabbat dono hi
yaadgar hote hai,Barish me jism
bheegta hai Aur mohabbat me aankhe

ये बारिश गवाह है मेरे हर उन आसूँओ की,
जो सिर्फ तुम्हारे लिए बहे हैं। 
Ye baarish gavaah hai mere har un aasoono ki,
Jo sirf tumhaare lie bahe hain.

एक अर्से बाद बारिश हुई मेरे
शहर में, देखो ना, कुछ बूंदें
अब तक पलकों से लिपटी हैं।
Ek arse baad baarish hui mere
Shahar mein, dekho na, kuchh boonden
Ab tak palakon se lipati hain.

कल रात मैंने सारे ग़म आसमान को सुना दिए,
आज मैं चुप हूँ और आसमान बरस रहा है।
Kal Raat Maine Sare Gam Aasman Ko
Suna Diye, Aaj Main Chup Hun
Aur Aasman Baras Raha Hai.

बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर
उनकी और हम उनसे मिलनें
की चाहत में भीग जाते हैं।
Barish Ki Boondo Me Jhalakti Hai
Tashveer Unki Aur,Hum Unse Milne
Ki Chahat Me Bheeg Jaate Hain.

बारिश पर शायरी

barish shayari in pics

जब भी होगी पहली बारिश तुमको
सामने पाएँगे, वो बूंदों से भरा
चेहरा तुम्हारा हम देख तो पाएँगे .
jab bhi hogi pahali baarish tumako
saamane paenge, vo boondon se bhara
chehara tumhara ham dekh to paenge.

बारिश से ज़्यादा तासीर है तेरी यादों मे,
हम अक्सर बंद कमरे मे भी भीग जाते हैं।
baarish se jyaada taaseer hai teri yaadon mein,
ham aksar band kamare me bhi bheeg jaate hain.

ये मौसम भी कितना प्यारा है,
करती ये हवाएं कुछ इशारा है,
जरा समझो इनके जज्बातों को,
ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।
Ye Mausam Bhi Kitna Pyara Hai,
Karti Ye Hawayen Kuch Ishara Hai,
Jara Samjho Inke Jazbaton Ko,
Ye Kah Rahin Hai Kisi Ne Dil Se Pukara Hai.

जिंदगी में एक पल ऐसा भी चाहिए
जोरो से बारिश हो और पास तू चाहिए।
Zindagi me ek pal aisa bhi chahiye
Joro se baarish ho aur paas tu chahiye…!

मासूम मोहब्बत का
बस इतना फसाना है
कागज की बसती और
बारिश का जमाना है।
Masoom mohabbat ka
Bas itna fasaana hai
Kaagaz ki basti aur
Barish ka zamana hai..!

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी
kaheen phisal na jao jara sambhal ke chalana
mausam baaris ka bhi hai aur mohabbat ka bhi.

Barsat Shayari Photo

barsat ki shayari

जुल्फें जो उनकी खुल गई
लगता है सावन आ गया
अब कौन रोकेगा घटाओ
को घूमने से लगता है
बारिश का मौसम आ गया..!
Julfen Jo jo Unki khul
gai lagta hai Sawan a
gaya ab kaun rokega
ghatao ko ghumne se
lagta hai Barish
Ka Mausam a Gaya..

दिल में अनजाना सा एहसास,
जैसे बारिश चुपके से कुछ कह रही है,
न जाने कौन सी कशिश है इस बारिश में,
जो साथ में यादें भी ले आई है।
dil mein anajaana sa ehasaas,
jaise baarish chupake se kuchh kah rahi hai,
na jaane kaun se kashish hai is baarish mein,
jo saath mein yaaden bhi le aai hai.

ये बारिश भी बिल्कुल तुम्हारी
तरह है,फर्क सिर्फ इतना है,
तुम मन को भीगा देती हो,
वो पूरे तन को भीगा देती है।
ye baarish bhi bilkul tumhaari
tarah hai,phark sirf itana hai,
tum man ko bheega deti ho,
vo poore tan ko bheega deti hai.

कभी जोर से बरसती कभी गूम सी है
ये बरिश भी ना कुछ तुम सी है।
Kabhi jorse barasti Kabhi
goom si hai Ye barish
bhi naa Kuch tum si hai

ये मौसम बारिश का अब पसंद
नहीं मुझे आंसू ही बहुत हैं
मेरे भीग जाने के लिए 
ye mausam baarish ka ab pasand
nahi mujhe aansoo hee bahut hai
mere bheeg jaane ke lie

बादलों से कह दो, जरा सोच समझ
कर बरसे, अगर मुझे उनकी याद
आ गयी, तो मुकाबला बराबरी का होगा ।
Badalon se kah do,jara soch samajh
kar barase,agar mujhe unaki yaad
aa gayi,to mukaabala barabari ka hoga .

Leave a Reply

Your email address will not be published.