Best Sad Khamoshi Shayari in Hindi – खामोशी शायरी

Spread the love

Khamoshi Shayari Hindi Status

जब इंसान का दिल टूटता है तब ही वो सबसे ज्यादा खामोश रहता है। मगर उसके मान में कई प्रकार के विचार चलते रहते है। वो व्यक्ति अकेला रहना और खुद से बात करना शुरू कर देता है। अगर आप ख़ामोश रहते हुऐ अपनी दुःख – सुःख को दूसरे को बताना चाहते हो तो इस पोस्ट में आपको कई प्रकार की khamoshi shayari in hindi with images मिलेंगी। अपने मान की बात इज़हार करे स्टेटस और स्टोरी द्माध्यमसे । अगर आपको ए khamoshi status in hindi पसंद आती है तो अपने दोस्तों के सात शायरी करें। इस वेबसाइट में बहोत किस्म की शायरी, कोट्स मिलेंगी। धयानवाद!!

Khamoshi Shayari Hindi Pics

khamoshi shayari in hindi

अजीब है मेरा अकेलापन
ना खुश हूँ, ना उदास हूँ
बस अकेला हूँ और खामोश हूँ…!!! 
Ajeeb hai mera akelaapan
Na khush hoon, na udaas hoon
Bas akela hoon aur khaamosh hoon…!!!

जब इंसान अंदर से टूट जाता हैं,
तो अक्सर बाहर से खामोश हो जाता हैं.
Jab insaan andar se toot jaata hai,
To aksar baahar se khaamosh ho jaata hai.

ख़ामोशी शायरी स्टेटस

khamoshi shayari

मोहब्बत नहीं थी तो एक बार समझाया तो होता,
नादान दिल तेरी खामोशी को इश्क समझ बैठा।
Mohabbat nahin thi to ek baar samajhaaya to hota,
Naadaan dil teri khaamoshi ko ishk samajh baitha.

जब कोई बाहर से खामोश होता है,
तो उसके अंदर बहुत ज्यादा शोर होता हैं.
Jab koi baahar se khaamosh hota hai,
To usake andar bahut jyaada shor hota hai.

हम ख़ामोशी से देते हैं ख़ामोशी का जवाब,
कौन कहता हैं अब हम बात नहीं करते !
Ham khamoshi se dete hai khamoshi ka javab,
kaun kahata hain ab ham baat nahi karate !

Khamoshi status in hindi

khamoshi shayari hindi

चुभता तो बहुत कुछ हैं मुझे भी तीर की तरह,
लेकिन खामोश रहता हूँ तेरी तस्वीर की तरह.
Chubhata to bahut kuchh hain mujhe bhee teer ki tarah,
Lekin khaamosh rahata hoon teri tasveer ki tarah.

तेरी खामोशी, अगर तेरी मजबूरी है,
तो रहने दे इश्क कौन सा जरूरी है.
Teri khaamoshi, agar teri majaboori hai,
To rahane de ishk kaun sa jaroori hai.

तड़प रहे है हम तुमसे एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो खामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए।
Tadap rahe hai ham tumase ek alphaaj ke lie,
Tod do khaamoshi hamen jinda rakhane ke lie.

मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी हैं
और शोर भी हैं, तूने गौर से नहीं देखा,
इन आखों में कुछ और भी हैं.
Meri khaamoshi mein sannaata bhi hai
Aur shor bhi hai,toone gaur se nahin dekha,
In aakhon mein kuchh aur bhi hain.

khamoshi par shayari

ख़ामोशी शायरी स्टेटस

इश्क की राहों में जिस दिल
ने शोर मचा रखा था,बेवफाई की
गलियों से आज वो खामोश निकला. 
Ishk ki raahon mein jis dil
Ne shor macha rakha tha,Bewafai ki
Galiyon se aaj vo khaamosh nikala.

इंसान की अच्छाई पर सब
खामोश रहते हैं,चर्चा अगर उसकी
बुराई पर हो तो गूँगे भी बोल पड़ते हैं.
Insaan kee achchhaee par sab
Khaamosh rahate hai,charcha agar usaki
Burai par ho to gonge bhi bol padate hai.

ख़ामोश फ़िजा थी कोई साया न था,
इस शहर में मुझसा कोई आया न था,
किसी जुल्म ने छीन ली हमसे हमारी मोहब्बत
हमने तो किसी का दिल दुखाया न था..
Khamosh fija thi koi saya na tha
is shahar me mujhsa koi Aaya na tha
kisi julm ne chin li humse hamari Mohabbat
Humne to kisi ka dil dukhaya na tha..

Khamoshi shayari in hindi

shayari on khamoshi

रात गम सुम है मगर खामोश नहीं,
कैसे कह दूँ आज फिर होश नहीं,
ऐसे डूबा हूँ तेरी आँखों की गहराई में
हाथ में जाम है मगर पीने का होश नहीं..
Raat gam sum hai magar khamosh nahi
kese kahe dun aaj fir hosh nahi
Ese duba hun teri Aankho ki gaharai me
Hath me jam hai magar pine ka hosh nahi..

अब अल्फ़ाज नहीं बचे कहने को
एक वो है,जो मेरी ख़ामोशी नहीं समझती।
Ab alfaaj nahin bache kahane ko
Ek vo hai,jo meri khaamoshi nahin samajhati.

तेरी ख़ामोशी, अगर तेरी मज़बूरी है,
तो रहने दे इश्क़ कौन सा जरुरी है.
Teri Khamoshi ,Agar Teri Majboori hai,
Toe Rahne De Ishaq Kon Sa Zaroori hai.

जवाब पलट कर देने में क्या ज़ोर जनाब
असली ताकत तो खामोश रहने में लगती हैं …
Javaab palat kar dene mein kya zor janaab
Asali taakat to khamosh rahane mein lagati hai..

जब से वो गया है मुझसे दूर
अब कोई मेरी ख़ामोशी नहीं पढ़ता.
Jab se vo gaya hai mujhase door
Ab koi meri khaamoshi nahin padhata.

ख़ामोशी पर शायरी

khamoshi shayari

लफ़्ज़ों की कमी तो कभी भी नहीं थी जनाब,
हमें तलाश उनकी है जो हमारी ख़ामोशी पढ़ लें ।
Lafzon ki kami to kabhee bhi nahin thi janaab,
Hamen talaash unaki hai jo hamaari khamoshi padh len .

दर्द हद से ज्यादा हो तो आवाज
छीन लेती है, ऐ दोस्त, कोई
खामोशी बेवजह नहीं होती है.
Dard had se jyaada ho to aavaaj
Chheen leti hai,ai dost, koi
Khaamoshi bevajah nahin hoti hai.

बोलने से जब अपने रूठ जाए,
तब खामोशी को अपनी ताकत बनाएं।
Bolane se jab apane rooth jae,
Tab khaamoshi ko apani taakat banaen.

बडी लम्बी खामोशी से गुजरे हैं हम…
किसी से कुछ कहने की कोशिश में…!!
Badi lambi khaamoshi se gujare hain ham…
Kisi se kuchh kahane ki koshish mein…!!

Shayari on khamoshi

khamoshi shayari

अब अल्फ़ाज नहीं बचे कहने को
एक वो है,जो मेरी ख़ामोशी नहीं समझती।
Ab alfaaj nahin bache kahane ko
Ek vo hai,jo meri khamoshi nahi samajhati.

मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी हैं
और शोर भी हैं, तूने गौर से नहीं देखा,
इन आखों में कुछ और भी हैं.
Meri khaamoshi mein sannaata bhi hai
Aur shor bhi hai,toone gaur se nahi dekha,
In aakhon mein kuchh aur bhi hai.

बातें किया कीजिए गलतफहमी
दूर करने के लिए क्योंकि ख़ामोशी
से उलझे रिश्ते सुलझा नहीं करते.
Baaten kiya keejie galataphahami
Door karane ke lie kyonki khaamoshi
Se ulajhe rishte sulajha nahin karate.

हक़ीकत में खामोशी कभी भी
चुप नहीं रहती है,कभी तुम गौर
से सुनना बहुत किस्से सुनाती है।
Haqeekat mein khaamoshi kabhi bhi
Chup nahin rahati hai,kabhi tum gaur
Se sunana bahut kisse sunaati hai.

Khamoshi shayari hindi

khamoshi-shayari

कभी ख़ामोश बैठोगे, कभी कुछ
गुनगुनाओगे, हम उतना याद आयेंगे,
जितना तुम मुझे भुलाओगे. 
Kabhi khaamosh baithoge, kabhi kuchh
Gunagunaoge,ham utana yaad aayenge,
Jitana tum mujhe bhulaoge.

मैंने अपनी एक ऐसी दुनिया
बसाई है, जिसमें एक तरफ
खामोशी और दूसरी तरफ तन्हाई है.
Mainne apani ek aisi duniya
Basai hai,Jisamen ek taraf
Khaamoshi aur doosari taraf tanhai hai.

जब से वो गया है मुझसे दूर
अब कोई मेरी ख़ामोशी नहीं पढ़ता. 
Jab se vo gaya hai mujhase door
Ab koi meri khaamoshi nahi padhata.

चलो अब जाने भी दो यार क्या
करोगे दास्तान सुनकर,
खामोशी तुम समझोगे नहीं
और बयां हमसे होगा नहीं।
Chalo ab jaane bhi do yaar kya
Karoge daastaan sunakar,
Khaamoshi tum samajhoge nahin
Aur bayaan hamase hoga nahin।

जब से ग़मों ने मेरी जिंदगी में
अपनी दुनिया बसाई है,दो ही साथी बचे हैं
अपनेएक ख़ामोशी और दूसरी तन्हाई है.
Jab Se Gamho Ne Meri Zindgi Mei
Apni Duniya Banayi hai,Do hy Sath Vatche hai
Apne Ek Khamoshi Aur Dusri Tanhayi.

Leave a Reply

Your email address will not be published.